मीडिल क्लास जिंदगी जीते हैं पंकज कपूर, इसी तरह से हुई है बेटे शाहिद की परवरिश

Get Daily Updates In Email

बॉलीवुड फिल्म स्टार्स अक्सर बड़ी बड़ी जगह वेकेशन एन्जॉय करने के लिए जाते हैं. लेकिन इंडस्ट्री में कई स्टार्स ऐसे हैं जिनकी फैमिली आज भी मीडिलक्लास की तरह ही जीवन जीते हैं. यही नहीं उनके बच्चे भी आज इंडस्ट्री के टॉप एक्टर बन चुके हैं लेकिन उनकी परवरिश मीडिलक्लास बच्चों की तरह ही हुई है. तो चलिए आपको बताते हैं आखिर हम किस फैमिली के बारे में बात कर रहे हैं.

Courtesy

यह फैमिली और कोई नहीं बल्कि पंकज कपूर की फैमिली है. जिनके बेटे शाहिद कपूर भी इंडस्ट्री के नामी एक्टर हैं. बता दें शाहिद कपूर के पिता पंकज कपूर और उनकी मां नीलिमा आजमी भी इंडस्ट्री में काफी समय तक राज कर चुके हैं. बता दें नीलिमा बिरजू महाराज से ट्रेनिंग भी ले चुकी हैं. उन्होंने पंकज कपूर से साल 1979 में शादी की थी. लेकिन शादी के 5 साल बाद दोनों का तलाक हो गया. माता पिता के तलाक के बाद शाहिद अपनी नानी के पास दिल्ली में रहने चले गए थे. जिस वजह से उनकी परवरिश मीडिल क्लास फैमिली की तरह ही हुई है. इसी वजह से जब उन्होंने अपना करियर बनाने के बारे में सोचा तो उन्हें किसी आम एक्टर की तरह ही स्ट्रग्ल करना पड़ा था.

Courtesy

जिस वजह से शाहिद को कभी भी नेपोटिज्म जैसी बातों का सामना नहीं करना पड़ा है. एक इंटरव्यू के दौरान भी शाहिद यह कह चुके हैं कि उनके लिए फैमिली के काफी मायने है और उनका ये मिडिल क्लास अप्रोच उनके जनरल एटीट्यूड में भी दिखता है. वे शादी के बाद अपनी फैमिली को ज्यादा से ज्यादा वक्त देना पसंद करते हैं.’

Courtesy

बता दें शाहिद कपूर की बॉलीवुड में कुछ ख़ास लोगों को दोस्ती नहीं है. वह अपने काम और परिवार पर ही ध्यान देते हैं. यह भी बता दें कि ऐसा जीवन वह अपने पिता पंकज कपूर की वजह से ही जी रहे हैं. बताते चलें पंकज कपूर अपने फ़िल्मी करियर में 2 नेशनल अवार्ड जीत चुके हैं. पंकज इंडस्ट्री के टॉप एक्टर्स में शुमार हैं. उन्होंने भी इस मुकाम पर आने के लिए खूब मेहनत की है लेकिन आज तक उन्होंने कभी अपनी आत्मकथा नहीं लिखी.

Courtesy

पंकज कपूर को इंडस्ट्री में 35 साल हो चुके हैं. जिसमें उन्होंने 45 से ज्यादा फिल्में और करीबन 10 सीरियल्स में काम किया है. अपनी एक्टिंग के जरिए इंडस्ट्री में पहचान बना चुके पंकज दूसरे स्टार्स के सामने मीडिल क्लास दिखाई देते हैं.

Published by Chanchala Verma on 22 Jun 2019

Related Articles

Latest Articles