14 की उम्र में ही सानिया ने जीती थी चैंपियनशिप, पद्मश्री पाने वाली सबसे कम उम्र की खिलाड़ी बनीं

Get Daily Updates In Email

क्रिकेट का नाम आते ही इंडियन फैन्स की जुबान पर सचिन तेंदुलकर का नाम आता है. जब बात हॉकी की होती है तो सभी ध्यानचंद को याद करते हैं. लेकिन जब बात महिला टेनिस की होती है तो सभी सानिया मिर्जा का नाम सबके जेहन में आता है. भारत की स्टार टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा 33 साल की हो गई हैं. सानिया का जन्म आज ही के दिन 1986 में हुआ था. अपने खेल से सभी को प्रभावित करने वाली सानिया ने अपने करियर की शुरुआत महज 14 वर्ष की उम्र में की थी.

मुंबई में जन्म लेने वाली मिर्जा का बचपन हैदराबाद में गुजरा और हैदराबाद में ही इस खिलाड़ी ने टेनिस भी खेलना शुरु किया. सानिया ने अपने करियर की शुरुआत साल 1999 में की थी. वहीं वर्ष 2000 में सानिया ने पाकिस्तान में खेले गए इंटेल जूनियर चैंपियनशिप जी-5 मुकाबले में सिंगल और डबल गेम में जीत हासिल की. डबल मुकाबलों में सानिया की जोड़ी पाकिस्तान के जाहरा उमर खान के साथ थी.

View this post on Instagram

🎃💥✨⚡️

A post shared by Sania Mirza (@mirzasaniar) on

वर्ष 2003 से 2013 लगातार एक दशक तक उन्होंने महिला टेनिस संघ (डब्ल्यू टी ए) के एकल और डबल में शीर्ष भारतीय टेनिस खिलाड़ी के रूप में अपना स्थान बनाए रखने में सफल रहीं और उसके बाद एकल प्रतियोगिता से उनकी सेवानिवृत्ति के बाद शीर्ष स्थान पर अंकिता रैना विराजमान हुईं. साल 2003 उनके जीवन का सबसे रोचक मोड़ बना जब भारत की तरफ से वाइल्ड कार्ड एंट्री करने के बाद सानिया मिर्ज़ा ने विम्बलडन में डबल्स के दौरान जीत हासिल की. बेहतर प्रदर्शन के लिए उन्हें 2005 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया.

2006 में उसे ‘पद्मश्री’ सम्मान प्रदान किया गया. सानिया यह सम्मान पाने वाली सबसे कम उम्र की खिलाड़ी हैं. साल 2009 में वह भारत की तरफ से ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनीं. अक्टूबर 2005 में टाइम पत्रिका के द्वारा सानिया को एशिया के 50 नायकों में नामित किया गया था. मार्च 2010 में एक समाचार पत्र के द्वारा उन्हें भारत की गौरवान्वित 33 महिलाओं की सूची में अंकित किया गया. वर्तमान में सानिया तेलंगाना राज्य की ‘ब्रांड एंबेसडर’ हैं.

Published by Yash Sharma on 15 Nov 2019

Related Articles

Latest Articles