वर्ल्ड कप 2019 की हार से काफी आहत हुए थे विराट, इंटरव्यू के दौरान कहा ‘मुझे हारना पसंद नहीं’

Get Daily Updates In Email

वर्ल्ड कप 2019 सेमीफाइनल भारत के लिए काफी अहम था. भारत बनाम न्यूजीलैंड के बीच खेला गया यह मुकाबला दो दिन तक चला था. विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया वर्ल्ड कप ट्राॅफी से बस दो कदम दूर थी. लेकिन कीवियों ने सेमीफाइनल में जब टीम इंडिया की जीत का रथ रोका तो करोड़ों फैंस के दिल टूट गए. हार से निराश और हताश भारतीय खिलाड़ी भी हुए. हाल ही में विराट कोहली ने मीडिया से बातचीत में उस हार से जुड़ा एक बड़ा राज उजागर किया है.

व‍िराट कोहली ने कहा, ‘मुझे हारना पसंद नहीं है. मैं यह नहीं कहना चाहता था कि मैं ऐसा कर सकता था. जब मैं मैदान पर कदम रखता हूं तो यह मेरे लिए सौभाग्य की बात होती है. जब मैं बाहर आता हूं तो मेरे अंदर ऊर्जा नहीं होती. हम उस तरह की विरासत छोड़ना चाहते हैं कि आने वाले क्रिकेटर कहे कि हमें इस तरह से खेलना है.’ कोहली ने आगे कहा कि, ‘मैं असफलताओं से प्रभावित होता हूं. हर कोई होता है. अंत में मैं एक बात जानता हूं कि मेरी टीम को मेरी जरूरत है. सेमीफाइनल में मुझे महसूस हो रहा था कि मैं नाबाद लौटूंगा और अपनी टीम को इस मुश्किल दौर से निकाल कर लाऊंगा.’

कोलकाता में बांग्लादेश को डे-नाइट टेस्ट में मात देन के बाद तो कोहली की टीम की तुलना विंडीज की 1970-1980 की टीम से की जाने लगी है, लेकिन कप्तान कहते हैं कि इस तरह की तुलना में अभी समय है. कप्तान ने कहा, ‘मैं सिर्फ इतना कह सकता हूं कि हम अपने खेल के शीर्ष पर हैं. आप सात मैचों से टीम के प्रभुत्व को बयां नहीं कर सकते. आप वेस्टइंडीज की उस टीम की बात कर रहे हैं जिसने 15 साल तक राज किया है.’

विराट कोहली ने कहा कि, ‘टीम की मानसिकता में बदलाव हुआ है और टीम को अब विश्वास है कि वह विदेशों में भी जीत हासिल कर सकती है’. उन्होंने कहा, तुलना करने में अभी भी समय है, लेकिन हम जिस तरह से खेल रहे हैं और जो चुनौतियां हमारे सामने हैं उन्हें लेकर हम काफी उत्साहित हैं. अब हमें न्यूजीलैंड में सीरीज खेलनी हैं.’

Published by Yash Sharma on 29 Nov 2019

Related Articles

Latest Articles