मणिपुर के इस्साक 12 साल की उम्र में देंगे 10वीं बोर्ड क्लास की एग्जाम, 141 है छात्र का आईक्यू लेवल

Get Daily Updates In Email

मणिपुर में 12 वर्षीय बच्चा 10वीं बोर्ड की परीक्षा देने वाला सबसे युवा छात्र बनने जा रहा है. एक अधिकारी ने बताया कि 141 आईक्यू स्कोर वाले इस्साक पॉललुंगमुआन चुराचांदपुर जिले के माउंट ओलिव स्कूल का छात्र है और 2020 में वह हाई स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (एचएसएलसी) की परीक्षा देगा. उन्होंने बताया कि बोर्ड परीक्षा में बैठने के लिए सरकार की अनुमति हासिल करने के लिए उसे मनोवैज्ञानिक परीक्षा भी पास करनी होगी.

View this post on Instagram

The Board of Secondary Education (BOSEM) has approved  Issac Paulallungmuan Vaiphei, of Kangvai village in Churachandpur district to appear for Assam High School Leaving Certificate in Class 10 board exams terming as "Special Case." The commissioner of the education department ordered to conduct a psychology test on the candidate. The Department of Clinical Psychology RIMS Imphal conducted a psychology test where Issac's mental age was 17 years 5 months. His intelligence quotient (IQ) is 141 which is of very superior intellectual and development functioning. #Manipur  #IssacPaulallungmuanVaiphei  #news #newsencender #latestnews #newsupdate #media

A post shared by News Encender (@newsencender) on

मणिपुर में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के सचिव चिथुंग मेरी थॉमस द्वारा जारी बयान में कहा गया कि 10वीं कक्षा की बोर्ड की परीक्षा देने के लिए मौजूदा नियम के अनुसार किसी विद्यार्थी की उम्र कम से कम 15 वर्ष होनी चाहिए. लेकिन इस्साक के मामले में इसमें छूट दी गई है क्योंकि यह एक विशेष मामला है. इसी के साथ वह असम की 10वीं की बोर्ड परीक्षा में बैठने वाले सबसे कम उम्र के बच्चे बन गए हैं. बता दें, उन्होंनेे 8वीं तक की पढ़ाई माउंट ऑलिब स्कूल से की है.

बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (BOSEM) ने उन्हें कक्षा 10वीं की बोर्ड परीक्षाओं में असम हाई स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट के लिए उपस्थित होने की अनुमति दे दी है. बच्चे ने कहा, ‘मैं खुश और उत्साहित हूं.’ बता दें, इस्साक के पिता ने पिछले साल एक आवेदन प्रस्तुत किया था जिसमें शिक्षा विभाग से अपने बेटे को मैट्रिक परीक्षा में लिखने की अनुमति देने की मांग की गई थी. इम्फाल स्थित रिम्स के क्लीनिकल साइकोलॉजी टेस्ट में इस्साक का दिमाग 17 साल 5 महीने जितना विकसित और आईक्यू लेवल 141 है. जिसका मतलब है कि उनका दिमाग काफी बौद्धिक है.

View this post on Instagram

Nod to 12 yearold to sit for Class X exam Fri, 22 Nov 2019 A twelve-year-old boy from Churachandpur's Kangvai village is all set to appear for the HSLC exam 2020 due early next year, as BSEM has cleared the same 'as a special case' after taking into account his mental age and superior IQ. Issac Paulallungmuan (12) son of Genkholian and Boijem of Kangvai has impressed his teachers and parents with his ability so much that both separately knocked at the BSEM's door to allow the boy sit for the board exam despite 3 years shy of the minimum required age. With the parents and the boy's current school – Mount Olive School – petitioning the State Education Department to let their November 2007 born boy appear at the HSLC exam, the Department consulted the Department of Clinical Psychology, RIMS before giving the green signal. An order issued by the Secretary BSEM on November 19, 2019 maintained that the Department of Clinical Psychology, RIMS administered Psychological test on the student and established that his mental age was 17 years and 5 months; while his basal age was 14 years and terminal age was 22 years. 'His IQ is 141 which is of very superior intellectual and development functioning,' it added. "Considering his mental age and superior IQ level, it is hereby ordered to allow Isaac Lallungmuan to get registration with the board at his actual date of birth and to appear in HSLC Examination, 2020 as a special case," further declared the order. #Tahchapa #kukikahikakipahe #kanamjem #kukisofnortheast #bornkuki #kuki #hslc #manipur #zalengam #kathange

A post shared by KUKI KAHI KA KIPAH E (@born_kuki) on

टेस्ट रिपोर्ट के आधार पर 1 अप्रैल को आइजक की उम्र 15 साल मानी जाएगी. यह 10वीं की परीक्षा में शामिल होने के लिए अनिवार्य है. हालांकि उनकी वर्तमान में आयु 12 साल है. उनके पिता ने कहा, ‘पिता के रूप में मुझे गर्व महसूस हो रहा है. हम परीक्षा विभाग के लिए बहुत खुश और आभारी हैं.’ कांगवई गांव के इस्साक को मणिपुर बोर्ड द्वारा फरवरी 2020 को निर्धारित आगामी बोर्ड परीक्षाओं के लिए अपनी वास्तविक जन्मतिथि के साथ अपना नाम दर्ज करने की मंजूरी मिल गई है.

Published by Yash Sharma on 10 Dec 2019

Related Articles

Latest Articles