फिल्मों में आने के लिए मनोज बाजपाई ने की है खूब मेहनत, बताई अपने स्ट्रगल की कहानी

Get Daily Updates In Email

अपनी एक्टिंग के दम पर इंडस्ट्री में अलग जगह बना चुके मनोज बाजपेयी आज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं. उन्होंने अपने ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’, ‘सत्या’ और ‘अलीगढ़’ जैसी फिल्मों में काम किया है लेकिन उन्हें यहां तक आने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा है.

हाल ही में मनोज बाजपाई ने अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए कई बातें कही हैं. जिसकी वजह से वह चर्चा में आ गए हैं. इंटरव्यू के दौरान उन्होंने अपनी फिल्मों और संघर्ष के दिनों को याद करते हुए बताया कि बॉलीवुड में उनका शुरुआती समय काफी विपरीत रहा था. इसके पीछे की वजह यह थी कि वह एक ऐसे समय में फिल्म इंडस्ट्री में आए थे. जब ऑडिशन और कास्टिंग निर्देशकों का इस्तेमाल नहीं किया जाता था.

View this post on Instagram

filmfare awards. #mainstream #shortfilm #criticschoice

A post shared by Manoj Bajpayee (@bajpayee.manoj) on

एक्टर ने कहा – ‘आप उस अभिनेता से बात कर रहे हैं जो उस समय में आया था जब कोई ऑडिशन नहीं हुआ करता था और कोई कास्टिंग डायरेक्टर नहीं था. आप अपनी तस्वीरें एक सहायक निर्देशक को देंगे और सुनिश्चित करें कि उसे वो कचरे में फेंक दिया जाएगा. ऐसा होते हुए मैंने खुद देखा है. जैसे ही मैंने अपनी पीठ को घुमाया, कई बार, एक या दो बार नहीं. जैसे ही मैंने अपना पहला शॉट दिया, मुझे एक फिल्म से बाहर कर दिया गया और मुझे कॉस्टयूम उतारने को बोल दिया गया.’

याद दिला दें कि मनोज बाजपेयी ने साल 1994 में आई फिल्म ‘द्रोहकाल’ से बॉलीवुड डेब्यू किया था. जिसके बाद से ही उन्होंने लाखों लोगों का दिल जीत लिया था. फिल्मों के साथ ही मनोज मनोज बाजपेयी ने डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी डेब्यू कर लिया है. वह पिछले साल आई वेब सीरीज ‘द फैमली मैन’ में नजर आए थे. जिसके बाद अब एक्टर दिलजीत दोसांझ और फातिमा सना शेख के साथ स्क्रीन शेयर करते हुए नजर आने वाले हैं.

यह फिल्म कॉमेडी फिल्म है जिसका नाम है ‘सूरज पे मंगल भारी’. फिल्म को अभिषेक शर्मा डायरेक्ट कर रहे हैं.

Published by Chanchala Verma on 12 Jan 2020

Related Articles

Latest Articles