इनसाइडर और आउटसाइडर की बहस में कूदे सैफ, बोले- ‘मैं भी हो चुका हूं इसका शिकार’

Get Daily Updates In Email

बॉलीवुड में इनसाइडर और आउटसाइडर को लेकर चल रही बहस थमने का नाम ही नहीं ले रही है. आए दिन बॉलीवुड के सितारे इस पर अपनी-अपनी राय और आप बीती सुनाते हुए नजर आ रहे हैं. इसी बीच अब बॉलीवुड के छोटे नवाब सैफ अली खान ने भी अपनी बात रखी है. जिसकी वजह से वह सुर्ख़ियों में आ गए हैं.

दरअसल सैफ अली खान बॉलीवुड की नामी एक्ट्रेस शर्मिला टैगोर के बेटे हैं. जिस वजह से उन्हें इंडस्ट्री में आने के लिए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी है लेकिन इसके बावजूद एक्टर का कहना है कि वह भी नेपोटिज्म का शिकार हो चुके हैं. सैफ का यह कहना सभी को हैरान कर रहा है.

हाल ही में दिए एक इंटरव्यू के दौरान सैफ अली खान ने कहा- ‘नेपोटिज्म, मैं कहूंगा, एक ऐसी चीज है जिसका शिकार मैं भी हो चुका हूं. लेकिन कोई इसके बारे में पहले बात ही नहीं करना चाहता था. बिजनेस ऐसे ही चलता है. हालांकि मैं इस बारे में किसी का नाम नहीं लेना चाहता कि कौन इसे फैला रहा है या फिर इसे सपोर्ट कर रहा है.’

View this post on Instagram

There is inequality in India that needs to be explored. Nepotism, favoritism and camps are different subjects, says Saif Ali Khan⁣ . ⁣ Saif Ali Khan was asked about Sushant Singh Rajput and nepotism in a recent interview. He said, “Sushant was a talented actor and a good-looking guy. I thought he had a bright future. He was polite to me and appreciated my guest appearance in the film. He wanted to talk about many topics like astronomy and philosophy. I got the feeling he was brighter than I was. I have no idea what @team_kangana_ranaut was saying on Koffee with Karan because I don’t think like that. As far as Karan is concerned, he has made himself a large symbol and it seems like he’s attracting a lot of flak for it. The truth is always complicated. There’s much more to it, but people aren’t interested in that. I hope the tide is over and better things shine through. There is inequality in India that needs to be explored. Nepotism, favoritism and camps are different subjects. Even I have been a victim of nepotism, but nobody speaks of that. I’m happy to see more people from film institutes come to the forefront."⁣ ⁣ ⁣ ⁣ #nepotism #kangana #kanganaranaut #saifalikhan #bollywood #bollywood #karanjohar #favouritism #bollywoodbusiness #berhalterout #speakup #comeforward #fakeworld #stopnepotism #bollywood #timetospeakup #saif #kanganaranautfanclub #koffeewithkaran #plainspoken #bollywoodactor #sushantsinghrajput #sushantsingh #itwillchange #changewillhappen #beingbollywood #ssr #justiceforsushant #indianfilmhistory #ifhofficial

A post shared by Indian Film History (@indianfilmhistory_official) on

आगे एक्टर कहते हैं कि- ‘मुझे आज भी याद है किसी के पिता ने फिल्ममेकर को फोन करके मेरे लिए कहा था कि उसे मत लो. वह हीरो के लिए सही नहीं. सबके साथ होता है और मेरे साथ भी हुआ है. बॉलीवुड इंडस्ट्री में हर लेवल का नेपोटिज्म है. फेवरेटिज्म से लेकर यहां तक है कि जो जिसके साथ काम करने में आरामदायक महसूस करता है वह उसी के साथ काम करता है और उसे ही कास्ट भी किया जाता है.’

View this post on Instagram

Saif Ali Khan says he's a victim of nepotism. Like when he won a National Award for Hum-Tum. Because it was due to nepotism of his mother Sharmila Tagore who was holding a prominent position in National Awards jury. . . . . . . . #saifalikhanmemes #saifalikhannews #saifalikhanа #saifalikhanfansclub #saifalikhanfc #saifalikhanfanclub #saifalikhansongs # #saifalikhanson #saifalikhanlovers #saifalikhandaughter #saifalikhanlover #saifalikhan #saifalikhanpt #saifalıkhan #saifalikhanmovies #saifalikhanfansofficial #saifalikhanajay #saifalikhankareenakapo #saifalikhanmovie #saifalikhanfamily #saifalikhanfans #saifalikhanpataudi #saifalikhanpataudi #saifalikhanfan #saifalikhansalmankhan #saifalikhan_

A post shared by Bollywood Glamsham (@bollywood_glamsham) on

साथ ही सैफ ने इस बात की ख़ुशी जरूर जताई है कि नए लोग फिल्मी दुनिया में कदम रख रहे हैं और घर-घर में अपने काम से पहचान बना रहे हैं. बाकी लोगों के लिए एक्टिंग का शानदार लेवल सेट कर रहे हैं. इसमें नवाजुद्दीन सिद्दीकी और पंकज त्रिपाठी जैसे नाम शामिल रहेंगे. आगे एक्टर ने कहा- ‘टैलेंट और स्किल्स जिसके अंदर है उसे आपको रिप्लेस नहीं करना चाहिए. अगर आप ऐसा करते हैं तो यह सिर्फ नेपोटिज्म के अंतरगत ही आता है. आप इस पर जितनी भी सफाई दे दें, कोई नहीं समझता.’

Published by Chanchala Verma on 02 Jul 2020

Related Articles

Latest Articles