नहीं रहे शास्‍त्रीय गायक पंडित जसराज, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर जताया दुःख

Get Daily Updates In Email

साल 2020 काफी बुरा साबित हो रहा है. यह एक बार फिर से साबित हो चुका है. ऋषि कपूर, सुशांत सिंह राजपूत, इरफ़ान खान और राहत इंदौरी के बाद अब देश के प्रसिद्ध शास्‍त्रीय गायक पंडित जसराज ने भी अंतिम सांसे ली है. जसराज का 90 साल की उम्र में अमेरिका के न्‍यूजर्सी में निधन हुआ है. शास्‍त्रीय संगीत के मेवाती घराने से ताल्‍लुक रखने वाले जसराज संगीत में महारत हासिल कर चुके हैं.

पंडित जसराज ने संगीत की शुरुआती शिक्षा पिता पंडित मोतीराम ने दी. जिसके बाद उनके भाई ने उन्हें तबला संगीतकार के रूप में प्रशिक्षित किया. 14 साल की उम्र से जसराज ने गायकी में प्रशिक्षण लेना शुरू किया. जिसके बाद उन्होंने 22 साल की उम्र में पहला स्‍टेज कन्‍सर्ट किया. जसराज ने शास्‍त्रीय संगीत के क्षेत्र में काफी अच्छी योगदान दिया है. जिसके चलते उन्हें पद्मविभूषण, पद्मभूषण और पद्मश्री से नवाजे जा चुके हैं. पंडित जसराज की बेटी दुर्गा जसराज ने निधन की पुष्टि की है.

पंडित जसराज के निधन पर पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर दुख जताया और लिखा – ‘पंडित जसराज जी के निधन से भारतीय सांस्कृतिक क्षेत्र में एक खालीपन आ गया है. न केवल उनकी प्रस्तुतियां उत्कृष्ट थीं, उन्होंने कई अन्य गायकों के लिए एक असाधारण गुरु के रूप में भी अपनी पहचान बनाई. दुनिया भर में मौजूद उनके प्रशंसकों और परिवार के प्रति संवेदना. ओम् शांति.’

बात करें जसराज की पर्सनल लाइफ की तो वह हरियाणा के हिसार से ताल्लुक रखते हैं. उन्होंने फेमस फिल्‍म निर्देशक वी शांताराम की बेटी मधुरा शांताराम से शादी की थी. जिनसे उनकी मुलाकात साल 1960 में मुंबई में हुई थी.  जिसके बाद उन्होंने साल 1962 में शादी की. उनके परिवार में उनके 2 बेटे और 1 बेटी है.

पंडित जसराज शास्‍त्रीय संगीत के साथ ही ‘ख़याल’ के पारंपरिक प्रदर्शनों के लिए फेमस हैं. उन्होंने ख़याल गायन में कुछ लचीलेपन के साथ ठुमरी, हल्की शैलियों के तत्वों को जोड़ा.

Published by Chanchala Verma on 17 Aug 2020

Related Articles

Latest Articles