‘साथ निभाना साथिया’ में गहना का किरदार निभा रही हैं स्नेहा, अपने रोल के बारे में की बात

Get Daily Updates In Email

टीवी के पॉपुलर शो ‘साथ निभाना साथिया’ के दूसरे सीजन की शुरुआत हो चुकी है. शो में कई एक्टर्स पुराने हैं तो कई एक्टर्स की नई एंट्री भी हुई है. शो की मैन लीड गोपी बहू के साथ ही गहना का किरदार भी अहम दिखाया गया है. जिसे स्नेहा जैन निभा रही हैं. हाल ही में स्नेहा ने अपने शो से जुड़े अनुभव साझा किए हैं.

इस रोल के मिलने के पीछे की कहानी बताते हुए स्नेहा ने कहा – ‘लॉकडाउन के कारण मैं घर पर थी. सारी चीजें ऑनलाइन हो रही थीं. कास्टिंग के लोगों ने मुझे कॉन्टैक्ट किया था, लेकिन मेरा फोन नहीं लग रहा था. ऐसे में उन्होंने मुझे मैसेज किया. बाई चांस फोन मेरे पास था. बात हुई तो मुझे गहना का किरदार बताया गया. स्क्रिप्ट भेजी और कहा कि एक वीडियो बनाकर भेजो. मैंने भेजा. अगले दिन मुझे पारंपरिक अवतार में फोटो भेजने के लिए कहा. वहां से मेरी शो के लिए जर्नी शुरू हुई. मैं ऑफिस गई, वहां सभी से मिली. मुझे रोल के बारे में डिटेल में बताया गया. पूरे लुक के साथ वह ऑडिशन करना चाहते थे. बात बनी, मुझे डायरेक्टर से मिलवाया गया. उन्होंने मेरा मॉक शूट किया, तब जाकर पक्के तौर पर निश्चित हुआ कि मैं इस शो में गहना का रोल करने वाली हूं.’

आगे एक्ट्रेस ने कहा – ‘जब मुझे पता चला कि रोल मुझे मिल चुका है और रूपल मैम शो का हिस्सा हैं तो मैं बहुत एक्साइटेड हो गई. किसी से भी मिलने का एक्साइटमेंट नहीं था, जितना रूपल मैम से मिलने का था. वह एक बेहतरीन आर्टिस्ट हैं. उनकी पर्सनैलिटी बहुत स्ट्रॉन्ग है. नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से हैं और काफी सीनियर हैं, ऐसे में उनके सामने खुद के फ्रेशर होने पर डर लग रहा था. सोच रही थी कि इनके साथ स्क्रीन शेयर करूंगी, कोई गलती हो गई तो क्या होगा? काफी टेंशन थी, लेकिन जब पहले दिन उनसे मिली तो नेचर देखकर दंग रह गई. वह काफी कूल लेडी हैं. एक शानदार को-एक्टर हैं, जिनके साथ आसानी से काम किया जा सकता है.’

आगे स्नेहा ने बताया – ‘एक आर्टिस्ट के अंदर ‘गिव एंड टेक’ वाली बात होती है. रूपल मैम से सीन के दौरान काफी कुछ सीखने को मिलता है. गलती करते हैं, सॉरी कहते हैं तो वह काफी लाइट-वे में चीजें लेती हैं. छोटी-छोटी चीजें वह ऑब्जर्व करती हैं और आर्टिस्ट को सपोर्ट करती हैं.’

आखिर में एक्ट्रेस ने कहा – ‘रूपल मैम जिस तरह बर्ताव करती हैं मैं उनसे प्रेरणा लेती हूं. वह हमेशा समय पर आती हैं, कभी देर नहीं करतीं. लाइन्स के साथ तैयार रहती हैं. वह अपने किरदार में काफी कन्टिन्यू रहती हैं. मस्ती मजाक करती हैं, लेकिन शूट के बीच में नहीं. वह सोचती हैं कि किरदार को और बेहतर कैसे बनाया जा सकता है.’

Published by Chanchala Verma on 21 Oct 2020

Related Articles

Latest Articles