भारत में शुरू होने जा रही है डिजिटल करेंसी, RBI और CBDC कर रहा क्रिप्टोकरेंसी लाने का विचार

Get Daily Updates In Email

डिजिटल करंसी में आने वाली तेजी को देखते हुए आरबीआई सतर्क हो गया है. आपको बता दें इस करेंसी के उतार-चढ़ाव पर किसी का नियंत्रण नहीं है और ना ही इसकी खरीद-फरोख्त पर दुनिया की किसी सरकार का नियंत्रण. ऐसे में सरकार इसकी मॉनिटरिंग करने के लिए इस पर जीएसटी लगा सकती है. आरबीआई ने कहा कि भुगतान उद्योग के तेजी से बदलते परिदृश्य, निजी डिजिटल टोकनों के आने और कागज के नोट या सिक्कों के प्रबंधन से जुड़े खर्च बढ़ने के मद्देनजर दुनिया भर में कई केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा (CBDC) लाने पर विचार कर रहे हैं.

केंद्रीय बैंक की डिजिटल करेंसी की संभावनाओं के अध्ययन और इनके लिए दिशा-निर्देश तय करने के लिए आरबीआई ने एक अंतर-विभागीय समिति भी बनाई है. आरबीआई ने कहा कि भुगतान क्षेत्र में तेजी से नवाचारों ने दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों को डिजिटल मार्गों की जांच करने के लिए प्रेरित किया है. जैसे-जैसे दुनिया भर में क्रिप्टोकरेंसी का चलन बढ़ा है, दुनिया भर की सरकारों ने डिजिटल मुद्राओं के अपने संस्करण जारी करने की संभावना पर विचार किया है. क्रिप्टो उत्साही अक्सर केंद्रीय बैंकों द्वारा अपनी संप्रभु मुद्राओं पर नियंत्रण बनाए रखने के प्रयास के रूप में देखते हैं.

अगर यह RBI जैसे केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा पूरी तरह से नियंत्रित किया जाता है तो मुझे वहां ब्लॉकचेन का फायदा नहीं दिखता है. क्रिप्टोकरेंसी लोगों के कारण लोगों द्वारा स्थापित विश्वास के बारे में है. जब आरबीआई की बात आती है, तो यह केंद्रीय प्राधिकरण के कारण स्थापित विश्वास है. मुख्य कार्यकारी अधिकारी और क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंज के सह-संस्थापक सात्विक विश्वनाथ ने कहा कि, ‘इस तरह के कदम से निश्चित रूप से डिजिटलीकरण के लक्ष्य में मदद मिलेगी और इससे कुछ बढ़ावा भी मिल सकता है.’

बता दें डिजिटल करेंसी या डिजिटल मुद्रा इसके कई नाम हैं. इसे ई-मुद्रा भी कह सकते हैं. यानि यह आपके नोटों की तरह नहीं होती है केवल कंप्यूटर पर ही दिखाई देती है सीधे आपके जेब में नहीं आती है इसलिए इसे डिजिटल करेंसी, वर्चुअल करेंसी कहते हैं. यह 2009 में लॉन्‍च हुई थी. अमूमन रुपया, डॉलर, यूरो या अन्य मुद्राओं की तरह ही इस मुद्रा का संचालन किसी राज्य, देश, संस्था या सरकार द्वारा नहीं किया जाता. यह एक डिजिटल करेंसी होती है जिसके लिए क्रिप्टोग्राफी का प्रयोग किया जाता है. आमतौर पर इसका प्रयोग किसी सामान की खरीदारी या कोई सर्विस खरीदने के लिए किया जा सकता है.

Published by Yash Sharma on 27 Jan 2021

Related Articles

Latest Articles