पीएम मोदी ने 5 महीने की तीरा कामत को दिया नया जीवन, 16 करोड़ की दवाई को किया टैक्स फ्री

Get Daily Updates In Email

केंद्र सरकार ने दुर्लभ बीमारी से ग्रसित पांच महीने की एक बच्ची की दवाइयों पर छह करोड़ रूपए का आयात शुल्क एवं जीएसटी माफ कर दिया है. बीजेपी नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को यह खबर शेयर की है. मुंबई के एक उपनगरीय अस्पताल में भर्ती तीरा कामत ‘स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी’ से ग्रस्त है. जिसमें तंत्रिका कोशिकाएं काम करना बंद कर देती हैं और उनका मांसपेशियों की गतिविधि पर नियंत्रण नहीं रहता.

तीरा के माता-पिता प्रियंका और मिहिर कामत ने सोशल मीडिया पर अपनी बच्चे के बारे में लिखा और जिससे धनराशि मिली एवं कर भी माफी हो गया. इसकी कारगर दवा जोलगेंस्मा आयात की जाती है और इस पर 23 फीसदी आयात कर और 12 फीसदी जीसएटी लगता है. पांच महीने की तीरा कामत को इलाज के लिए 16 करोड़ का इंजेक्शन लगना था. विदेशी इंजेक्शन पर 6 करोड़ टैक्स था. पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने टैक्स छूट के लिए पीएम को चिट्ठी लिखी थी. प्रधानमंत्री मोदी ने मानवीयता को सर्वोपरि रखते हुए टैक्स इंजेक्शन पर टैक्स माफ कर दिया.

प्रधानमंत्री के इस फैसले के बाद बच्ची को 16 करोड़ का इंजेक्शन लग सकेगा. दरअसल 13 जनवरी से मुंबई के अस्पताल में पांच महीने की तीरा कामत को भर्ती करवाया था. बच्ची ने अचानक अपनी मां का दूध पीना बंद कर दिया था. जांच के बाद पता चला कि बच्ची को एसएमए- टाइप1 बीमारी है. इस बीमारी से लड़के लिए के लिए डॉक्टरों ने जो इंजेक्शन लिखा उसकी कीमत जानकर तीरा के माता पिता प्रियंका और मिहिर देसाई के पैरों के नीचे से जमीस खिसक गई.

दुनिया की सबसे महंगी दवा माने जाने वाले इस इंजेक्शन की कीमत 16 करोड़ रूपए थी. इसे विदेश से मंगवाया जाना था. इतना ही नहीं डॉक्टरों ने तीरा के माता पिता से कहा कि अगर बच्ची को इंजेक्शन नहीं लगा तो उसकी जिंदगी सिर्फ अगले 18 महीने तक ही होगी.

पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस से मामले की जानकारी होने पर प्रधानमंत्री ने भी बिना देर किए बच्ची के इंजेक्शन पर आयात शुल्क माफ करने का फैसला किया. प्रधानमंत्री के फैसले के बाद बच्ची का परिवार खुश है. अब उनकी बिटिया को इंजेक्शन लग सकेगा और उसकी जिंदगी बच सकेगी.

Published by Yash Sharma on 12 Feb 2021

Related Articles

Latest Articles